नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान? (नाम के अनुसार गुण मिलान कैसे करे)

शादी करवाने से पहले लड़के की कुंडली और लड़की की कुंडली को किसी योग्य पंडित को दिखाया जाता है और जब पंडित के द्वारा यह बताया जाता है कि दोनों की कुंडली काफी हद तक आपस में मिलान कर रही है तो उसके पश्चात दोनों के परिवार वाले शादी के लिए मान जाते हैं और इस प्रकार से लड़के और लड़की की शादी हो जाती है।

पहले कुंडली मिलान करने के लिए पंडित की आवश्यकता पड़ती थी परंतु अब ऑनलाइन विभिन्न वेबसाइट के द्वारा आप घर बैठे ऑनलाइन कुंडली मिलान कर सकते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको “नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान कैसे करें” की जानकारी दे रहे हैं साथ ही यह भी बता रहे हैं कि “नाम से कुंडली कैसे मिलाते हैं।”

नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान

नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान कैसे करे?

इंटरनेट पर आपको विभिन्न प्रकार की ऐसी वेबसाइट मिल जाएंगी, जो सिर्फ नाम और डेट को भर कर के ही कुंडली मिलान करने की सुविधा आपको देती है। हालांकि सभी वेबसाइट के द्वारा विश्वसनीय रिपोर्ट जारी की जाए, इसके बारे में पक्के तौर पर कुछ भी नहीं कहा जा सकता है।

इसलिए आपको इस आर्टिकल में बताएं गए कुंडली मिलान वेबसाइट का ही इस्तेमाल करना चाहिए, क्योंकि जिस वेबसाइट का जिक्र हम इस आर्टिकल में कर रहे हैं वह वेबसाइट काफी लंबे समय से ज्योतिष के ऊपर काम कर रही है और इस वेबसाइट के द्वारा दिए गए रिजल्ट पर आप पूर्ण रुप से भरोसा कर सकते हैं।

नीचे आपको नाम और डेट ऑफ बर्थ से ऑनलाइन कुंडली मिलाने का तरीका बताया गया है।

स्टेप 1. आपको अपने मोबाइल में अथवा अपने लैपटॉप में सबसे पहले इंटरनेट डाटा कनेक्शन ओपन करना है और उसके बाद आपको किसी भी ब्राउज़र को ओपन कर लेना है।

स्टेप 2. ब्राउज़र ओपन होने के बाद ऊपर दिए हुए सर्च बॉक्स पर आपको क्लिक करना है और आपको एमपंचांग लिखना है और सर्च कर देना है।

स्टेप 3. अब आपकी स्क्रीन पर अलग-अलग प्रकार की वेबसाइट आएंगी। उन वेबसाइट में से आपको इस वेबसाइट के नाम के ऊपर क्लिक कर देना है। नीचे आपकी सुविधा के लिए वेबसाइट का लिंक भी दिया गया है।

स्टेप 4. वेबसाइट पर पहुंचने के पश्चात आपको ऊपर की साइड में कुंडली मैचिंग वाला ऑप्शन मिलेगा, उस पर क्लिक करना है।

नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान

स्टेप 5. अब आपको इंटर बॉयस डिटेल्स सेक्शन के अंतर्गत सबसे पहले नीचे दी गई जानकारियों को भरना है।

  • Name: यहां पर आपको लड़के का नाम इंटर करना है।
  • Birth date: यहां पर आपको लड़के के पैदा होने का दिन, पैदा होने का महीना और पैदा होने का साल दर्ज करना है।
  • Birth time: लड़का कब पैदा हुआ था, उस समय को आपको यहां पर इंटर करना है।
  • City: लड़के का जन्म किस स्थान पर हुआ था, उस स्थान के नाम को यहां पर डालें।
नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान

स्टेप 6. अब आपको इंटर गर्ल्स डिटेल सेक्शन के अंतर्गत नीचे दी हुई जानकारियों को दर्ज करना है।

  • Name: यहां पर आपको लड़की का नाम डालना है।
  • Birth date: यहां पर आपको सबसे पहले लड़की के पैदा होने का दिन, उसके पश्चात पैदा होने का महीना और उसके पश्चात पैदा होने के साल को इंटर करना है।
  • Birth time: लड़की का जन्म धरती पर कब हुआ था, उस समय को आपको यहां पर दर्ज करना है।
  • City:  लड़की कहां पैदा हुई थी, इसकी जानकारी आपको यहां पर देनी है।

स्टेप 7. अब आपको नीचे एक ईमेल वाला बॉक्स मिलेगा। उस बॉक्स के अंदर आपको अपनी ईमेल आईडी को दर्ज करना है।

स्टेप 8. अब आपको नीचे हिंदी और इंग्लिश लिखा हुआ दिखाई दे रहा होगा, इसका मतलब यह होता है कि आप कुंडली का रिजल्ट हिंदी में देखना चाहते हैं अथवा इंग्लिश में देखना चाहते हैं। इस प्रकार आप अपनी इच्छा के अनुसार किसी भी ऑप्शन का सिलेक्शन करें।

स्टेप 9. अब नीचे जो मैच कुंडली (Match Kundali) वाला ऑप्शन दिखाई दे रहा है उस पर आपको क्लिक करना है।

स्टेप 10. ऊपर बताई हुई प्रक्रिया को जब आप पूर्ण कर लेंगे तो उसके तुरंत बाद कुंडली मैचिंग का रिजल्ट आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा और इस प्रकार से ऊपर दी हुई प्रक्रिया का पालन करके आप नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान कर सकेंगे।

कुंडली मिलान क्या है?

जब दो परिवारों के द्वारा अपने लड़के और लड़की की शादी एक दूसरे के साथ करवाई जाती है तो उसके पहले दोनों की ही कुंडली का मिलान किया जाता है। इसे ही कुंडली मिलान कहा जाता है।

कुंडली मिलान किसी अच्छे पंडित के द्वारा कराया जाता है जो ज्योतिष विद्या का ज्ञाता होता है। कुंडली इसलिए मिलाई जाती है ताकि वर और वधू का वैवाहिक जीवन कैसा रहेगा, इसके बारे में जानकारी प्राप्त की जा सके।

अगर किसी होने वाले वर और वधू की कुंडली के अधिकतर गुण एक दूसरे से नहीं मिल रहे हैं तो ऐसे में विवाह नहीं करने का फैसला लिया जाता है।

कुंडली मिलान के द्वारा यह पता किया जाता है कि लड़के की शादी जिस लड़की के साथ और लड़की की शादी जिस लड़के के साथ हो रही है वह दोनों एक दूसरे के लिए उपयुक्त है अथवा नहीं। अधिकतर हिंदू धर्म को मानने वाले लोग शादी करवाने के पहले कुंडली मिलान अच्छे ज्योतिष के द्वारा अवश्य करवाते हैं।

नाम से कुंडली कैसे कैसे देखे?

अगर आपकी शादी किसी व्यक्ति से तय होने वाली है और आप उस व्यक्ति और अपनी कुंडली का मिलान घर बैठे ऑनलाइन करना चाहते हैं, तो इसके लिए आप एस्ट्रो राशिफल वेबसाइट का इस्तेमाल कर सकते हैं।

एस्ट्रो राशिफल वेबसाइट के द्वारा ऑनलाइन कुंडली मैचिंग कैसे करते हैं कि जानकारी नीचे प्रस्तुत की गई है।

स्टेप 1. ऑनलाइन कुंडली मैचिंग करने के लिए अपने मोबाइल या फिर कंप्यूटर में एस्ट्रो राशिफल की आधिकारिक वेबसाइट को ओपन करें, जिसका लिंक नीचे दिया गया है।

स्टेप 2. ऊपर दिए हुए लिंक पर क्लिक करके जब आप एस्टॉराशिफल की आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाएंगे तो उसके पश्चात आपको ऊपर की साइड में कुंडली वाला ऑप्शन प्राप्त होगा, उस पर क्लिक करना है।

स्टेप 3. अब आपको नाम से कुंडली मिलान वाला ऑप्शन दिखेगा, उस पर क्लिक कर देना है।

स्टेप 4. अब एक पेज ओपन होगा। उसमें टोटल दो ऑप्शन होंगे। पहले वाले ऑप्शन में आपको लड़के का नाम के अंतर्गत अपना नाम डालना है और दूसरे वाले ऑप्शन में आपको लड़की के नाम के अंतर्गत लड़की का नाम डालना है।

स्टेप 5. अब आपको नीचे जो गुलाबी रंग के बैकग्राउंड में मिलान का परिणाम वाली बटन दिखाई दे रही है, उस पर क्लिक कर देना है।

बस इतनी सी प्रक्रिया करने के पश्चात तुरंत ही आपके डिवाइस की स्क्रीन पर नाम से कुंडली मिलान का रिजल्ट प्रस्तुत हो जाएगा।

कुंडली के 8 गुण की जानकारी

दूल्हा और दुल्हन की कुंडली जब मिलाई जाती है तो दोनों के ग्रह नक्षत्र की जानकारी प्राप्त होती है जिसके अंतर्गत यह देखा जाता है कि दूल्हा और दुल्हन के जन्म कुंडली में चंद्रमा कहां पर मौजूद है।

इससे इस बात की जानकारी हासिल होती है कि उनके जीवन काल में कब कौन सी घटनाएं घटित हो सकती है अथवा विवाह के पश्चात क्या उनके शादीशुदा जीवन में कोई समस्या आएगी अथवा नहीं। नीचे हमने आपको कुंडली के 8 गुणों की जानकारी दी है।

1: वर्ण/वारण/जाति

यह गुण लड़की और लड़के में मौजूद अहंकार को दर्शाता है। कहने का मतलब है कि यह बताता है कि लड़का लड़की एक दूसरे पर कितना क्रोधित होंगे‌। इसे ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, और शूद्र इस प्रकार से चार भागों में विभाजित किया जाता है।

2: वस्या / वाश्य

शादी होने के पश्चात लड़के और लड़की के बीच कितने प्रेम रहेगा, यह इस बात को दर्शाता है।

3: तारा/दीना

यह फ्यूचर से रिलेटेड होता है।

4: योनि:

यह इस बात को दर्शाता है कि लड़का और लड़की एक दूसरे के कितने करीब है और वह एक दूसरे से कितना प्रेम करते हैं।

5: ग्रह मैत्री / रस्यादिपति

यह अच्छे मित्र, प्यार और मनोवैज्ञानिक अनुकूलता को दर्शाता है, साथ ही साथ यह लड़का और लड़की के बीच चंद्र राशि की अनुकूलता को भी प्रदर्शित करता है।

6: गण

यह इस बात को दर्शाता है कि व्यक्ति काम कैसे करता है और वह कैसा अनुभव करता है।

7: राशि या भकूट

यह भी इस बात को दर्शाता है कि लड़का और लड़की एक दूसरे के साथ भावनात्मक रूप से कैसे जुड़े हुए हैं और वह एक दूसरे से कितना प्रेम करते हैं। लड़के की जो जन्मकुंडली होती है उसमें ग्रहों की जगह लड़की की जन्म कुंडली से अलग होती है।

अगर कन्या राशि से लड़के का चंद्रमा दूसरे, तीसरे, चौथे, पांचवें, छठे भाव में होता है तो इसे अशुभ गिना जाता है परंतु अगर सातवें या फिर बारहवें भाव में होता है तो इसे बहुत ही शुभ गिना जाता है।

लड़की के मामले में अगर जन्म कुंडली में चंद्रमा पुरुष कुंडली से दूसरे, तीसरे, चौथे, पांचवें और छठे गुण में मौजूद होता है तो यह लड़के की जन्म कुंडली से 12वे स्थान पर होने पर शुभ माना जाता है।

8: नाडी

यह इस बात को दर्शाता है कि जिस व्यक्ति से आप की शादी हो रही है उसके साथ आपकी जिंदगी कैसे व्यतीत होगी।

क्या शादी के लिए कुंडली मिलान आवश्यक है?

हिंदू धर्म को मानने वाले लोगों के द्वारा लड़के और लड़की का रिश्ता तय करने से पहले उन दोनों की ही कुंडली को लिया जाता है और किसी अच्छे पंडित से उन दोनों की कुंडली के गुणों को मिलाया जाता है।

जिन लड़के और लड़की के कुंडली के गुण आपस में नहीं मिल पाते हैं उन दोनों की शादी होने में काफी समस्याएं पैदा होती है और उनके घर वाले भी ऐसी शादी की बिल्कुल भी परमिशन नहीं देते हैं।

कुंडली में कितने गुण मिलने चाहिए?

टोटल 36 प्रकार के गुण हर व्यक्ति की कुंडली में होते हैं परंतु जब बात लड़के और लड़की के शादी के दरमियान कुंडली मिलाने की आती है तो ऐसी अवस्था में 36 गुणों में से कम से कम 18 या फिर 21 गुण अगर मिलते हैं तो इसे शादी के लिए सही माना जाता है।

किसी भी लड़के और लड़की के सभी 36 गुणों का मिलना बहुत ही दुर्लभ माना जाता है। हिंदू मान्यता के अनुसार सिर्फ माता सीता जी और भगवान श्री राम जी के ही 36 गुण आपस में मिले थे।

शादी के लिए गुण कैसे देखें?

शादी होने के पहले कुंडली मिलान के अंतर्गत अष्टकूट के गुण देखे जाते हैं, जिसमें नाड़ी के 8 गुण, भकूट के 7 गुण, गण मैत्री के 6 गुण, ग्रह मैत्री के 5 गुण, योनि मैत्री के 4 गुण, ताराबल के 3 गुण, वश्य के 2 गुण और वर्ण के 1 गुण का मिलान किया जाता है।

कुंडली ना मिले तो क्या करें?

अगर किसी ग्रह या फिर नक्षत्र की वजह से कुंडली नहीं मिल पा रही है तो ऐसी अवस्था में आपको किसी जानकार पंडित से मिलना चाहिए। यह पंडित या तो गायत्री उपासक होना चाहिए या फिर कोई ज्योतिष होना चाहिए जो ग्रहों और नक्षत्रों की अच्छी जानकारी रखता हो।

 इनके द्वारा आपको कुछ उपाय बताए जाते हैं उन्हें अगर आप करते हैं तो निश्चित ही कुंडली मिलने के योग बन जाते हैं क्योंकि दुनिया में अगर समस्या है तो उसका समाधान भी है।

कुंडली मिलान और मांगलिक दोष

कभी-कभी कुंडली मिलान करने के दरमियान लड़के या फिर लड़की दोनों के कुंडली में दोष होता है या फिर किसी एक व्यक्ति की कुंडली में दोष होता है। ऐसे में उस दोष का निवारण करना बहुत ही आवश्यक होता है। अगर दोष को नजरअंदाज करके विवाह करवाया जाता है तो विवाह तो हो जाता है परंतु उसके पश्चात शादीशुदा जिंदगी में काफी झगड़े होते हैं।

कुंडली मिलाने के दरमियान यह भी देखा जाता है कि लड़के या फिर लड़की की कुंडली में कहीं मांगलिक दोष तो नहीं है। अगर मांगलिक दोष है तो उसके निवारण का उपाय किया जाता है। हिंदू मान्यता के अनुसार किसी व्यक्ति की कुंडली में अगर मांगलिक दोष है तो उसकी शादी मांगलिक व्यक्ति से ही करवानी चाहिए।

कुंडली मिलान कैसे होता है?

अनुभवी ज्योतिष के द्वारा कुंडली मिलान किया जाता है क्योंकि जैसे किसी सोने का काम करने वाले व्यक्ति को ही सोने की परख होती है उसी प्रकार कुंडली देखने का काम वही व्यक्ति कर सकता है जो अनुभवी ज्योतिष हो।

क्योंकि कुंडली देखने के दरमियान ग्रहों की चाल, नक्षत्र और दूसरे कई पहलुओं का ध्यान रखा जाता है और उसके पश्चात सटीक जानकारी दी जाती है। कुंडली के अंतर्गत दोनों ही कुंडली के ग्रह दशा का आकलन किया जाता है और उनके स्वभाव को तथा उनकी रुचि को देखा जाता है।

नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान FAQs:

क्या ऑनलाइन कुंडली मिलान पर भरोसा किया जा सकता है?

जी बिलकुल आजके समय में हर कोई ऑनलाइन कुंडली मिलान कर रहा है।

कुंडली में कुल कितने गुण होते हैं?

कुंडली में कुल 36 गुण होते हैं?

कुंडली बनवाने के लिए महत्वपूर्ण जानकारियां क्या होती है?

पैदा होने का समय,स्थान, गोत्र, माता पिता का नाम।

यह भी पढ़े…

आज अपने क्या जाना?

तो दोस्तों उम्मीद करते है आजका यह जानकारी आपको पसंद आया है तो अपने सिख लिया है की आखिर मोबाइल से नाम और डेट ऑफ बर्थ से कुंडली मिलान कैसे किया जाता है, यदि आपको सही में कुंडली मिलान का यह जानकारी पसंद आया है तो कृपा करके इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे ताकि उनको भी इसके बारेमे जानकारी मिल साके।

यदि आपको इस पोस्ट से जुड़े कोई भी सवाल करना है तो निचे कमेंट में अपना सवाल हमसे पूछ सकते है हम आपके सवाल के सही जवाब देने की पूरी कोसिस करेंगे।

पोस्ट को शेयर करे:

मेरा नाम परवेज है, में एक फुल टाइम ब्लॉगर हु। मुझे लिखना और पढ़ना पसंद है साथ ही लोगो की मदद करना भी पसंद है। यदि आपको हिंदी में ब्लॉग पड़ना पसंद है तो यह ब्लॉग आपके लिए काफी मजेदार हो सकता है...

Related Posts

Leave a Comment