KTM का मालिक कौन है और यह किस देश का है?

KTM Ka Malik Kon hai? आप यह जानने के लिए इंटरनेट पर सर्च कर रहे हैं तो इस पोस्ट में आपके सवाल का जवाब है। KTM Bike युवाओं की पहली पसंद बन उभरी है। इसे बनाया भी युवाओं को ध्यान में रखकर मैन्युफैक्चरिंग किया जाता है। स्पीड और सुंदर लुक इसको अट्रैक्शन का केंद्र बनाता है। दोस्तों साल दर साल चेंज होने पर केवल कैलेंडर की तारीख ही नहीं बल्कि देश में भी चेंज आता है और लोगों की सोच में भी और साथ ही साथ पसंद में भी।

कंपनी अपने प्रोडक्ट का निर्माण भी अपने टारगेट खरीदार के मुताबिक करती है। KTM Bike की मैन्यूफैक्चरिंग भी अपने टारगेट कस्टमर की पसंद को ध्यान में रखकर इसका लुक स्टाइलिश रखता है और साथ ही साथ इसमें लगने वाला इंजन काफी पॉवरफुल होता है जो बाइक रेसिंग के लिए इस बाइक को लोगों की पसंद बनाता है। दोस्तों जैसी इज्जत Royal Enfield Bullet को बॉडीबिल्डिंग लोगों से मिलती है ठीक वैसी ही इज्ज़त रेसिंग बाइक लवर्स KTM Bike को देते हैं। दोस्तों इस पोस्ट में KTM Bike Company के बारे में साझा करेंगे। KTM ka Malik Kon hai? और KTM kis Desh ki company hai?

KTM ka Malik Kon hai?

KTM Ka Malik पेशेवर इंजीनियर रहे हैं। Johan Trunkenpolz नामक इंजीनियर ने KTM Bike Company को साल 1934 में फाउंड किया था। हालांकि तब यह कंपनी नहीं बल्कि एक व्हीकल रिपेयर शॉप का नाम था। साल 1937 में Trunkenpolz अपनी शॉप में DKW Motorcycle और Opel (जर्मन कार मैन्युफैक्चरिंग कंपनी) की कार बेचने लगे।
लेकिन उनकी शॉप का officially registered नहीं था। साल 1939 जब विश्व में दूसरे विश्व युद्ध का बिगुल बज गया था तब Johan Trunkenpolz की वाइफ ने यह शॉप संभाली जो ज्यादातर डीजल इंजन रिपेयर का काम देखती थी। दूसरे वर्ल्ड वॉर खत्म होने के बाद रिपेयर के काम की डिमांड बिल्कुल न के बराबर हो चली थी जिसके चलते Johan Trunkenpolz ने खुद की बाइक मैन्युफैक्चरिंग करने के बारे में सोचा।

साल 1951 में ही KTM Bike की पहली बाइक R100 का प्रोटोटाइप तैयार हो चुका था और साल 1953 में इस बाइक की प्रोडक्शन 20 एम्प्लाइज के साथ शुरू हो चली थी जब प्रति दिन मात्र 3 R100 बाइक मैन्युफैक्चरिंग हो पाती थी।

दोस्तों KTM Bike Company को स्टैंड करने में Johan Trunkenpolz का साथ बिज़नेस मैन Ernst Kronreif ने दिया जो कंपनी के मेजर शेयर होल्डर भी रहे हैं। लेकिन जब कंपनी अपने पीक पर थी तब Ernst Kronreif की साल 1958 में मृत्यु हो गई और कंपनी के बुरे दिन तभी से चालू हो गए और दो साल बाद फाउंडर Johan Trunkenpolz की भी हार्ट अटैक से मौत हो गई। फाउंडर की मौत के बाद कंपनी Johan Trunkenpolz के बेटे Erich Trunkenpolz ने संभाली। यानी Erich Trunkenpolz भी आपके सवाल KTM ka Malik Kon hai? के जवाब में लिया जा सकता है।

KTM का फुल फॉर्म क्या है?

यदि आपको नहीं पता है दुनिया का खास कर इंडिया का मसूर बाइक KTM का फुल फॉर्म यानि की पूरा नाम तो दोस्तों KTM का पूरा नाम है “Kraftfahrzeuge Trunkenpolz Mattighofen

K – Kraftfahrzeuge

T – Trunkenpolz

M – Mattighofen

KTM किस देश की कंपनी है?

KTM Bike Company का नाता ऑस्ट्रिया से है। ऑस्ट्रिया के ही इंजीनियर Johan Trunkenpolz ने Mattighofen जो कि ऑस्ट्रिया के ऊपरी इलाकों में आने वाला टाउन है। वहीं अपनी व्हीकल रिपेयर शॉप KTM खोली थी। इसका फुल फॉर्म उस समय ‘Kraftfahrzeug Trunkenpolz Mattighofen’ था। इसमें Kraftfahrzeug का मतलब यह है “कोई भी व्हीकल जो मोटर की सहायता से रॉड पर चल सके”। लेकिन यह नाम दस्तावेज में दाखिल नहीं था इसीलिए वर्ल्ड वार खत्म होने के बाद जब ऑस्ट्रिया इंजीनियर Johan Trunkenpolz ने KTM Bike R100 का प्रोडक्शन करना शुरू किया तब बिज़नेस मैन Ernst Kronreif के साथ KTM रेजिस्टर करके शुरू की गई। लेकिन अब KTM का फुल फॉर्म Kronreif & Trunkenpolz Mattighofen रखा गया।

KTM Bike का भारत से रिश्ता

दोस्तों KTM Bike का रिश्ता भारत से भी काफी मजबूत है। हालांकि यह रिश्ता इतना पुराना नहीं लेकिन हर कंपनी भारत में आने की इच्छा रखता है कारण सभी के सामने स्पष्ट है भारत में मौजूद इतना बड़ा मार्किट बेस। इसी तर्ज पर 2007 में KTM Bike ने भारत की बजाज ऑटो के साथ पार्टनरशिप की थी। इसमें बजाज ऑटो के उस वक्त 14.7 % शेयर थे जो अब बढ़कर 49 प्रतिशत बजाज ऑटो के शेयर हैं और 51 प्रतिशत KTM bike के हैं। KTM Bike के 365 भारतीय शहरों में कुल मिलाकर 460 स्टोर्स मौजूद हैं।

भारत में KTM की सबसे पहली बाइक Duke 200 थी जो साल 2012 में लांच हुई थी। Performance Biking Culture बढ़ने के चलते भारत में सुपर-प्रीमियम मोटरसाइकल segment पिछले कुछ सालों में बढ़ता दिख रहा है।

भारत में केटीएम 390 Duke की बिक्री साल 2013 से शुरू हुई थी हालांकि इसे अमेरिकी बाजारों तक पहुंचने में और 2 साल का वक्त लगा। इस मोटरसाइकिल को चलाने से पहले इसे एक बार समझना ज्यादा जरूरी है।

KTM Bike Price कितना होता है?

दोस्तों KTM Bike लेने के शौकीन लोग बहुत हैं परन्तु यह बाइक की कीमत इतनी अधिक है कि हर इंसान इसको अफ़्फोर्ड नहीं कर पाते। अगर फिर भी आपने मन बना लिया है KTM Bike को खरीदने का तो जेब में डेढ़ लाख तो लेकर चलें। KTM Bike की शुरुआती कीमत जो कि 125 Duke की है वे है 1.50 लाख और यह स्टार्टिंग वर्जन की है। इसके अलावा KTM Bike की रेंज में सबसे महंगी बाइक 390 Adventure है जिसकी कीमत 3 लाख 20 हजार के आस पास है। लेकिन KTM Bike Price का इतना महंगा होने का एक कारण है। असल में KTM Bike एक रेसर बाइक है। यानी यह बाइक रेस करने के लिए बनाई जाती है जिसके कारण इसके मोटर काफी स्ट्रांग होते हैं और रोड पर चलाने पर यह स्पोर्ट्स बाइक काफी confortable रहती है जिससे आप यह अंदाजा लगा सकते हैं कि यह ज्यादा दाम काफी वाजिब हैं।

KTM का मालिक के बारेमे क्या जाना?

दोस्तों इस पोस्ट से आपको स्पोर्ट्स बाइक कंपनी KTM Bike के बारे में जानने को जरूर मिला होगा। साल 1934 में एक रिपेयर शॉप स्टार्ट करने वाले इंजीनियर ने वर्ल्ड वॉर के बाद रिपेयर के कार्य मे डिमांड की भारी गिरावट के बाद खुद की बाइक बनाने का नहीं सोचा होता तो शायद KTM जैसी बाइक किसी होर के दिमाग में नहीं आती।

Leave a Comment