कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं (Computer ko hindi mein kya kahate hain)?

कंप्यूटर आज सभी लोगों के लिए उपलब्ध है और यही वजह है कि कंप्यूटर आज बड़े पैमाने पर लोगों के घरों में, अधिकांश सरकारी और गैर सरकारी ऑफिस में भी दिखाई दे रहा है। कुछ जगह तो ऐसी है जहां पर सारा काम कंप्यूटर के द्वारा ही होता है।

हम सभी यह बात अच्छी तरह से जानते हैं कि कंप्यूटर के काम करने की स्पीड बहुत ही शानदार होती है और यह ऐसे ऐसे काम कर देता है जिसे करना इंसानों के बस की बात नहीं होती है। कंप्यूटर क्या-क्या कर सकता है, इसके बारे में किसी को भी बताने की आवश्यकता नहीं है।

क्योंकि हर कोई व्यक्ति कंप्यूटर के बारे में इतना तो जानता ही है कि कंप्यूटर इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, जो कई कामों को एक सेकंड में ही पूरा कर देती है परंतु इसके बावजूद कई लोगों को यह नहीं पता है कि Computer ko hindi mein kya kahte hain “कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं,” तो आइए इस आर्टिकल में जानते हैं “कंप्यूटर का हिंदी में नाम क्या है” अथवा “कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहा जाता है।”

कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं

कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं?

हिंदी भाषा में कंप्यूटर को “संगणक” कहा जाता है। इसे खोज करने का श्रेय चार्ल्स बैबेज नाम के व्यक्ति को जाता है, चार्ल्स बैबेज को ही कंप्यूटर का जनक भी कहा जाता है। हम इंसानों की जिंदगी में आज कंप्यूटर की इतनी अहमियत हो चुकी है कि इसे इंसानो की जिंदगी का अभिन्न अंग माना जाने लगा है।

कंप्यूटर का इस्तेमाल हमारे द्वारा दैनिक तौर पर किया जाने लगा है। इसने इंसानों की जिंदगी को काफी हद तक बदल दिया है। जब कभी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ आविष्कारों की गिनती होती है तो उसकी लिस्ट में कंप्यूटर का नाम भी अवश्य आता है।

चाहे कितना भी मुश्किल गणित का सवाल क्यों ना हो, कंप्यूटर पर बस 1 सेकंड में ही आपको उसका जवाब मिल जाता है। इतना ही नहीं आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठे हुए दूसरे व्यक्ति को कंप्यूटर के द्वारा अपने आवश्यक दस्तावेज इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में एक सेकेंड के अंदर ही भेज सकते हैं।

यहां तक की आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठे हुए व्यक्ति से फेस टू फेस वीडियो कॉलिंग के जरिए बातचीत भी कर सकते हैं। इसके अलावा नौकरी के आवेदन फॉर्म को भी आप ऑनलाइन भर सकते हैं। यहां तक की नौकरी की एग्जाम को भी कंप्यूटर के द्वारा ही ऑनलाइन करवाया जाने लगा है।

कंप्यूटर का पुराना नाम (Full Form of Computer in Hindi)

हिंदी में कंप्यूटर को कई नामों से बुलाया जाता है परंतु आधिकारिक तौर पर इसे हिंदी में संगणक कहा जाता है और यह हिंदी में कंप्यूटर का सबसे सामान्य नाम है। इसके अलावा कुछ जगहों पर इसे गणना यंत्र भी कहा जाता है और अंग्रेजी में इसे कैलकुलेशन मशीन भी कहते हैं।

कंप्यूटर का फुल फॉर्म अंग्रेजी और हिंदी में

अंग्रेजी भाषा में कंप्यूटर का फुल फॉर्म कॉमनली ऑपरेटेड मशीन पार्टिकुलरली यूज्ड टेक्निकल एजुकेशन एंड रिसर्च होता है और हिंदी में कंप्यूटर का पूरा नाम आमतौर पर संचालित मशीन विशेष रूप से प्रयुक्त तकनीकी शैक्षणिक अनुसंधान है। नीचे हमने कंप्यूटर के फुल फॉर्म को हिंदी और अंग्रेजी भाषा में हर शब्द के साथ डिवाइड करके बताया हुआ है।

अंग्रेजी में फुल फॉर्म

  • C – Commonly
  • O – Operated
  • M – Machine
  • P – Particularly
  • U – Used
  • T – Technical
  • E – Educational
  • R – Research

कंप्यूटर का हिंदी में फुल फॉर्म

  • सी – आम तौर पर
  • ओ – संचालित
  • एम – मशीन
  • पी – विशेष रूप से
  • यू – प्रयुक्त
  • टी – तकनीकी
  • ई – शैक्षणिक
  • आर – अनुसंधान
Short FormEnglish Full FormHindi Full Form
CCommonlyआम तौर पर
OOperatedसंचालित
MMachineमशीन
PParticularlyविशेष रूप से
UUsedप्रयुक्त
TTechnicalतकनीकी
EEducationalशैक्षणिक
RResearchअनुसंधान

इंग्लिश में कंप्यूटर को क्या बोलते हैं?

इंग्लिश में कंप्यूटर को कंप्यूटर ही बोलते हैं। कंप्यूटर की गिनती इलेक्ट्रॉनिक मशीन में होती है। कंप्यूटर किसी भी प्रकार के काम को संपूर्ण करने के लिए मुख्य तौर पर चार प्रकार की प्रक्रिया से होकर के गुजरता है।

जिसके अंतर्गत सबसे पहले यूजर के द्वारा इंस्ट्रक्शन दिए जाते हैं और जो इंस्ट्रक्शन प्राप्त होते हैं उसकी वजह से Pc स्टार्ट होती है।

उसके पश्चात सबसे आखरी में जो प्रोसेस किया गया डाटा होता है वह स्टोर होता है और फिर वह डिस्प्ले होता है। इस प्रकार से इन कामों को अंग्रेजी भाषा में इनपुट, प्रोसेसिंग, आउटपुट और स्टोरेज कहा जाता है।

कंप्यूटर की बनावट

कंप्यूटर को तैयार करने में कई पार्ट को एक साथ असेंबल किया जाता है और तब जाकर के कंप्यूटर बन करके तैयार होता है। इसमें हार्डवेयर भी लगाया जाता है। इनपुट डिवाइस भी लगाया जाता है और आउटपुट डिवाइस भी लगाया जाता है।

कंप्यूटर के पिता

अगर हम लेटेस्ट कंप्यूटर पर गौर करें तो इसका निर्माण किसी एक व्यक्ति के द्वारा नहीं किया गया है, बल्कि कई लोगों ने योगदान दिया है, तब जाकर के कंप्यूटर बनाया गया है। किताब के नजरिए से देखा जाए तो कंप्यूटर की हिस्ट्री काफी पुरानी है। इसलिए किसी भी व्यक्ति को इसके आविष्कारक का तमगा देना सही नहीं है।

हालांकि चार्ल्स बैबेज के द्वारा बनाई गई कैलकुलेशन मशीन ने मॉडर्न कंप्यूटर को डिवेलप करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। इसलिए चार्ल्स बैबेज को ही कंप्यूटर का जनक अथवा कंप्यूटर का पिता अथवा कंप्यूटर का आविष्कारक कहा जाता है।

भारत मे कंप्यूटर का इतिहास

दुनिया में कंप्यूटर की खोज हो जाने के पश्चात कई सालों के बाद लगभग साल 1953 में भारतीय सांख्यिकी इंस्टिट्यूट के द्वारा भारत देश में पहले एनालॉग कंप्यूटर की स्थापना की गई थी।

और थोड़े साल गुजर जाने के बाद साल 1955 में HEC-2M को विदेश से मंगाया गया था और उसे ही इंडिया का पहला डिजिटल कंप्यूटर कहा गया।

कम्प्यूटर की विशेषताएं

  • अपनी लाजवाब काम करने की कैपेसिटी की वजह से इंसानों के अधिकतर कामों को अब कंप्यूटर ने अपने हाथों में ले लिया है और यह इसके अंदर मौजूद इसके खास गुणों की वजह से ही संभव हो पाया है।
  • कंप्यूटर ने इंसानों की जिंदगी के कई कामों को काफी आसान बना दिया है। नीचे आपके सामने हमने कंप्यूटर की कुछ खास विशेषताएं प्रस्तुत की है।
  • अपनी तेज स्पीड की वजह से ही कंप्यूटर सिर्फ कुछ सेकेंड के अंदर ही कितनी भी मुश्किल कैलकुलेशन क्यों ना हो, उसे आसानी से सॉल्व कर देता है। यही वजह है कि बड़े पैमाने पर कैलकुलेशन करने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल अधिकतर गवर्नमेंट और प्राइवेट ऑफिस में किया जाता है।
  • कंप्यूटर के द्वारा जिस सिद्धांत पर काम किया जाता है उसे गार्बेज इन गार्बेज आउट सिद्धांत कहा जाता है। अगर आप कंप्यूटर पर किसी भी काम को करते हैं तो उसमें गलती होने की संभावना एक प्रतिशत भी नहीं होती है। इसीलिए कंप्यूटर के द्वारा जो रिजल्ट दिए जाते हैं उस पर पूर्ण रूप से विश्वास किया जाता है।
  • कंप्यूटर इलेक्ट्रॉनिक मशीन है। इसीलिए इसे थकान नहीं होती आप इस पर बिना रुके थके अपने काम को सही प्रकार से और पूरी शुद्धता के साथ संपूर्ण कर सकते हैं। यह आपके द्वारा दिए जाने वाले हर इंस्ट्रक्शन को शुरू से लेकर आखिरी तक मेहनत,शुद्धता और पूरी एकाग्रता के साथ कंप्लीट करता है।
  • कंप्यूटर को बहू उद्देश्य मशीन कहा जाता है अर्थात यह मल्टीपरपज मशीन है। इसमें कैलकुलेशन करने के अलावा भी अन्य कई काम होते हैं। जैसे की टाइपिंग, एडिटिंग इत्यादि। कंप्यूटर के द्वारा आप वीडियो कॉल कर सकते हैं, ईमेल भेज सकते हैं, कुछ भी गूगल पर सर्च कर सकते हैं, रिपोर्ट तैयार कर सकते हैं, ग्राफिक कार्ड बना सकते हैं।
  • यह ऑटोमेटिक काम करने वाली मशीन होती है और विभिन्न प्रकार के कामों को बिना मानव के हस्तक्षेप के पूरा करती है।
  • कंप्यूटर मशीन दूसरे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से भी कम्युनिकेट करती है और यह नेटवर्क के जरिए अपने डाटा को आसानी से एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में भेजने की सुविधा देती है।
  • कंप्यूटर की स्टोरेज मेमोरी काफी अधिक होती है और अपनी विशाल स्टोरेज मेमोरी की वजह से ही यह बिना हैंग हुए लगातार काम करता रहता है।
  • कंप्यूटर की लाइफ लंबी होती है, इसके साथ जो अन्य उपकरण होते हैं उसे आसानी से चेंज किया जा सकता है अथवा उनका रखरखाव काफी सरल होता है।
  • कंप्यूटर के द्वारा अपने काम को करने के लिए कागज का इस्तेमाल नहीं किया जाता है ना ही हमें स्टोरेज रखने के लिए कागज की आवश्यकता पड़ती है। इसलिए इनडायरेक्ट तौर पर कंप्यूटर प्रकृति का रक्षक भी कहा जाता है।

कम्प्यूटर की सीमाएं

भले ही कंप्यूटर ऑटोमेटिक मशीन है परंतु इसे अपना काम करने के लिए हम इंसानों के द्वारा दिए जाने वाले इंस्ट्रक्शन की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि जब हम कंप्यूटर पर किसी काम को करते हैं तो ही कंप्यूटर काम करना प्रारंभ करता है।

जब तक हम कंप्यूटर को कोई भी इंस्ट्रक्शन नहीं देंगे तब तक यह किसी भी प्रकार का रिजल्ट हमें नहीं देगा। कंप्यूटर में विवेक नहीं होता है साथ ही इसमें सोचने समझने की कैपेसिटी भी नहीं होती है। हालांकि वर्तमान के समय में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के द्वारा ऐसे कंप्यूटर भी तैयार किए जा रहे हैं जो सोचने समझने की शक्ति रखेंगे।

कंप्यूटर में करियर

कंप्यूटर की फील्ड काफी विशाल होने की वजह से इस फील्ड में कई स्पेशलाइज्ड फील्ड डेवलप हो चुकी है। नीचे हमने आपकी सुविधा के लिए कुछ ऐसी कंप्यूटर जॉब्स के बारे में जानकारी दी हुई है जिसे आप कंप्यूटर सब्जेक्ट और इससे संबंधित पढ़ाई करके हासिल कर सकते हैं।

  • कंप्यूटर प्रोग्रामर
  • हार्डवेयर इंजीनियर
  • सॉफ्टवेयर डेवलपर
  • वेब डेवलपर
  • वेब डिजाइनर
  • डाटा साइंटिस्ट
  • नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर
  • गेम डेवलपर
  • कंप्यूटर टीचर
  • कंप्यूटर ऑपरेटर
  • डाटा एंट्री ऑपरेटर
  • कंप्यूटर टाइपिस्ट
  • ब्लॉगिंग
  • ग्राफिक डिजाइनर

कंप्यूटर बनाने वाली कंपनी की सूची

जब कंप्यूटर की खोज की गई थी तब इसे कुछ ही कंपनी के द्वारा बनाया जाता था परंतु जैसे-जैसे अन्य टेक्नोलॉजी की फील्ड में काम करने वाली कंपनियां लॉन्च होती गई, वैसे वैसे उन्होंने भी अपने ब्रांड के नाम से कंप्यूटर बनाना स्टार्ट कर दिया।

और आज कंप्यूटर बनाने वाली मार्केट में कई कंपनी मौजूद है, जो अपने अपने कंप्यूटर में कई सुविधाएं देती है। नीचे कुछ ऐसी ही बेस्ट कंप्यूटर मैन्युफैक्चरिंग कंपनी की लिस्ट हमने दी है जो सर्वश्रेष्ठ कंप्यूटर बनाने के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है।

  • सैमसंग
  • तोशिबा
  • डेल
  • शाओमी
  • एचपी
  • लेनोवो
  • एप्पल
  • Acer
  • असूस
  • माइक्रोसॉफ्ट
  • बायोस्टार
  • एप्सन

कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते है – FAQs:

कंप्यूटर के कितने अंग होते हैं?

इसके मुख्य दो भाग हैं हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर। हार्डवेयर को हम टच कर सकते हैं और सॉफ्टवेयर को ना हम देख सकते हैं ना टच कर सकते हैं।

कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहा जाता है?

कंप्यूटर को हिंदी में “संगणक” कहा जाता है?

कंप्यूटर को संस्कृत में क्या कहा जाता है?

कंप्यूटर को संस्कृत में “संगणकयंत्रम्” कहा जाता है?

कंप्यूटर का आविष्कारक अथवा कंप्यूटर का पिता किसे कहा जाता है?

कंप्यूटर का आविष्कारक अथवा कंप्यूटर का पिता “चार्ल्स बैबेज” को कहा जाता है?

यह भी पढ़े…

आज अपने क्या सीखा?

तो दोस्तों उम्मीद करते है आजका जानकारी आपको पसंद आया और इस लेख से आपको पता चल गया की कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं (Computer ko hindi mein kya kahate hain)? यदि आपको यह जानकारी सही में हेल्पफुल लगा है तो पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे ताकि उनको भी इसके बारेमे पता चले।

यदि कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते हैं इस से जुड़े कोई भी सवाल आपके मनमे है तो निचे कमेंट में अपना सवाल हमसे पूछे हम आपके सवाल के सही जवाब देने की पूरी कोसिस करेंगे।

पोस्ट को शेयर करे:

मेरा नाम परवेज है, में एक फुल टाइम ब्लॉगर हु। मुझे लिखना और पढ़ना पसंद है साथ ही लोगो की मदद करना भी पसंद है। यदि आपको हिंदी में ब्लॉग पड़ना पसंद है तो यह ब्लॉग आपके लिए काफी मजेदार हो सकता है...

Related Posts

Leave a Comment